देवर ने तोड़ा विधवा भाभी का विश्वास, रात के अँधेरे का फायदा उठा भाभी के साथ कर दिया ये काण्ड

भारत में आज भी कई लोग बहुत सी कुप्रथाओं को इस कदर सजो कर अपने पास रखते है कि मानो कई बार वो प्रथाएँ अपनों से बढकर हो जाती हैl ऐसी ही एक कुप्रथा का उदाहरण हमारे सामने हाल ही में घटी एक घटना से सामने आयाl जानकारी के लिए बता दें कि बड़ा चाँदगंज अलीगंज निवासी शिवकुमार मिश्रा नाम के एक पुजारी ने अपनी एकलौती बेटी बंदना की शादी 20 जून 2009 में अरसोलिया हरदोई निवासी रामदेव द्विवेदी के बेटे मिथलेश द्विवेदी के साथ बड़ी ही धूमधाम से की थीl

बंदना का पति मिथलेश एक निजी कम्पनी में काम करता था और वह हसनगंज खदरा स्थित घर में अपने परिवार के साथ रह रहा थाl शादी के बाद पति पत्नी में शुरुआत में तो सब सही चल रहा था लेकिन फिर बाद में मानो दोनों की गिरस्ती को किसी की नजर लग गईl और पति काम उम्र में ही पत्नी को अकेला छोड़ दुनिया से हमेशा से अलविदा कर चला गयाl

पति की मौत के बाद मानो बंदना पर दुखो का पहाड़ टूट पड़ाl पति के गुजरने के कुछ समय बाद ही सास, ससुर ने विधवा भाभी को देवर से शादी करने के लिए उसके ऊपर दबाव डालना शुरू कर दियाl  इतना ही नहीं शादी के नाम पर उसके पिता से दहेज भी लिया और उसके बाद विधवा को टरकाने का सिलसिला शुरू हो गयाl महिला के पिता पर भी जब जल्द शादी करवाने का दबाव डाला तो कुछ विवाद हुआl जिसकी आड़ में ससुरालवाले देवर से शादी कराने से मुकर गये और पीड़िता के साथ मार-पीट कर उसे घर से भी भगा दियाl फिलहाल अभी मामला अलीगंज पुलिस थाने में दर्ज है और मामले की जांच हो रही हैl

पुलिस जांच में बंदना ने बताया कि दिसम्बर साल 2010 में उसके पति मिथलेश की लम्बी बीमारी के बाद मौत हो गयी थीl पति की मौत के दो महीने बाद ही बंदना को एक पुत्र पैदा हुआl बंदना ने आरोप लगाते हुए बताया कि पहले तो पुलिस भी काफी दिनों तक मुकदमा लिखने में आना-कानी करती रही और बाद में समुचित धाराओं में मुकदमा नही लिखाl अगर मुकदमा दर्ज हुआ भी तो वो बहुत हल्की धाराओं में हुआl

बंदना ने अपने ससुरालवालों की सारी करतूतों से पर्दा उठाते हुए बताया कि पति की मौत के बाद वह अपने बेटे बंस के साथ कभी ससुराल तो कभी मायके दोनों जगह रहती थीl पर बाद में ससुर रामदेव मिश्रा ने घर की इज्जत घर में ही बनी रहने का हवाला देते हुए बंदना के पिता से कहा कि वे बहू शादी छोटे बेटे सुनील कुमार द्विवेदी के साथ कर देl बंदना के मुताबिक वह पहले तो वो देवर के साथ शादी न करके अपने बच्चे के साथ अकेले जीवन यापन करना चाहती थी लेकिन जब मायके व ससुराल पक्ष दोनों के लोग उस पर दवाव डालने लगे तो साल 2011में उनको मजबूरन झूकना पड़ाl

देवर बोला भाभी नहीं अब बीबी हो..

बता दें कि जब देवर सुनील को मालुम पड़ा कि विधवा भाभी ने उससे शादी की रजामंदी दे दी है तो मानो उसकी कमुखता जाग गई, वो बगैर शादी के ही विधवा भाभी के करीब आने की कोशिश करने लगाl लेकिन भाभी ने हमेशा सुनील को मना कियाl वह हमेशा देवर को समझाती रही कि जब हम दोनों की शादी हो जायेगी, तभी हम दोनों पति-पत्नी के रुप में एक साथ रहेगेl जिस पर सुनील खूब नाराज हुआ और बंदना से बोला कि अब तुम भाभी नही, मेरी बीबी हो, हमारी शादी तो बस दुनिया के लिए एक रस्म हैl वह भी जल्द पूरी हो जायेगीl ऐसे में जब मेरे माता पिता तुम्हें मेरी बीबी मान चुके हैं, तो अब तुम मुखसे दूरियां कैसी बना रही हो…

इतना ही नहीं भाभी से संबंध बनाना मानो जैसे सुनील के ऊपर हावी थाl उसने बंदना को ऐसी ऐसी बेहूदा बाते बोली जिसे सुन ऐसा लग रहा था मानो वो बंदना को लेकर जैसे सालों से उत्तेजित बैठा थाl उसने कहा कि भाभी मै तुम्हारे हुस्न का इस कदर दीवाना हूँ कि दिन-रात मुझे बस तुम्हारा चेहरा ही दिखाई देता हैl

सुनील की इन प्यार भरी बातों का सिलसिला जैसे कभी रुकने वाला नहीं थाl ये सिलसिला यूँ ही कई दिनों तक चलता रहाl फिर एक दिन वो काली रात आयी जब सुनील ने भाभी-देवर के रिश्ते को तार-तार करते हुए बंदना को अकेला पाकर उसे सोते समय उसके बेडरुम में जकड़ लियाl इसे पहले की बंदना कुछ समझ पाती सुनील ने शादी से पहले ही बिना बंदना की सजमंदी के उस रात उसके साथ न केवल शारीरिक संबंध बनाए बल्कि उसके सारे सपने भी कुचल डालेl

अगले दिन जब पीड़ित बंदना ने सुनील की सारी करतूत अपने सास व ससुर को बताई तो दोनों ने जो कहा उसे सुन मानो एक बार फिर उसकी जिंदगी में भूचाल आ गयाl बंदना के मुताबिक सास ससुर ने सुनील को दंड देने की बजाय उसका पक्ष लेते हुए कहा कि सुनील तुम्हारा होने वाला पति है, अगर उसने तुम्हारे साथ संबंध बनाए भी है तो इसमे हर्ज क्या हैl सास-ससुर की इन बातो ने मानो जैसे सुनील के इरादों को तूल दे दी अब वो बेख़ौफ़ आये दिन उसके साथ शारीरिक संबन्ध बनाने लग गयाl

बंदना ने अपनी आप बीती पुलिस को बताई कि कैसे सुनील हर रात अपने बाप-बाप के सामने ही उसके साथ हैवानियत दिखता थाl वो लगातार उससे शारीरिक संबंध रहा था, लेकिन जब भी बंदना शादी करने की तारीख तय करने की बात कहती थी तो वह कोई न कोई बहाना बना कर उस बात को टरका देता थाl

आये दिन शादी की तारिक तय करने को लेकर बंदना व उसके पिता शिवकुमार लगातार सुनील और उसके माता-पिता से बात कर रहे थे लेकिन वो लोग हमेशा उन्हें टरकाते रहते थेl एक दिन गुस्से में उन्होंने अपनी असल मंशा जब बंदना को बताई तो मानो उसकी जिंदगी ही उजड़ गईl बंदना ने बताया कि एक दिन उसके ससुर रामदेव ने उसे बोला कि सुनील की शादी तुमसे तभी करेंगे, जब उसके पिता दहेज में सुनील के लिए एक बाइक व खेती करने के लिये एक ट्रैक्टर खरीद कर देंl