द्रोपदी के अलावा ये भी थी पांडवों की पत्नियां, महाभारत काल का ये रहस्य कर देगा आपको हैरान!

महाभारत की कहानी काफी रोचक है, इसकी जितनी परतें खोलते जाओ उतना ही ज्यादा ये और रहस्यमय दिखने लगती है. कौरव और पांडवों के बीच रंजिश के परिणामस्वरूप महाभारत का भीषण युद्ध हुआ, जिसमें कौरव सेना को परास्त कर पांडवों ने अपनी विजय गाथा का परचम लहराया. हम सभी इस बात को जानते हैं कि महाभारत की कहानी में कई दिलचस्प और रोचक घटनाएं मौजूद हैं. जैसे द्रौपदी का पांच भाइयों के साथ विवाह, इस विवाह की शर्त और नियम, इसके अलावा अर्जुन और कृष्ण का संबंध, आजीवन विवाह ना करने की प्रतिज्ञा लेने के बाद देवव्रत को भीष्म की उपाधि मिलना, पांचाली का चीरहरण आदि.

इन सभी के अलावा महाभारत काल में कुछ ऐसी घटनाएं घटित हुईं जो दिलचस्प से ज्यादा रहस्य से परिपूर्ण हैं. जैसे शकुनि का प्रतिशोध, भीष्म को मिला इच्छा मृत्यु का वरदान, शांतनु का गंगा से विवाह, अंबा का श्राप और शिखंडी का जीवन आदि. जिन लोगों ने महाभारत की कहानी को सुना या पढ़ा है वे बहुत हद तक इन रहस्यों से रूबरू होंगे लेकिन आज जो कहानी हम आपको सुनाने जा रहे हैं उससे ज्यादा लोग अवगत नहीं होंगे.

हम सभी इस बात को जानते हैं कि द्रौपदी पांच पांडवों की पत्नी थी लेकिन बहुत कम लोग इस बात को जानते हैं कि सिर्फ द्रौपदी ही पांडवों की पत्नी नहीं थी बल्कि द्रौपदी के अलावा भी पांडवों की अपनी-अपनी पत्नी और बच्चे थे. आज हम आपको महाभारत काल के उस रहस्य से रूबरू कराने जा रहे हैं जिसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं.

महाभारत काल में द्रौपदी ने पांडवों से विवाह किया था और उन्होंने एक-एक साल के अंतराल से पांचो पांडवों के एक-एक पुत्र को जन्म दिया था. जिसमें युधिष्ठिर से जन्मे पुत्र का नाम प्रतिविन्ध्य, अर्जुन से जन्मे पुत्र का नाम श्रुतकर्मा, नकुल से जन्मे पुत्र का नाम शतानीक और सहदेव के पुत्र का नाम श्रुतसेन था.

इतना ही नहीं द्रौपदी से जन्मे पुत्रों के अलावा पांडवों के और भी पुत्र थे लेकिन उनके बारे में कभी जिक्र नहीं किया गया था. अब तक हम सभी ने महाभारत के जितने किस्से और कहानीयों को सुना है उसमे कभी भी पांडवों के अन्य पुत्रों के बारे में शायद ही जिक्र मिला हो. लेकिन आज हम आपको पांडवों के पुत्रों के बारे में तो बता चुके हैं लेकिन इसके साथ हम आपको पांडवों की पत्नियों के बारे में भी बताएंगे.

आगे जानिए पांडवों की पत्नियों के बारे में –

 1. युधिष्ठिर – युधिष्ठिर की दूसरी पत्नी देविका थी। देविका से जिस पुत्र का जन्म हुआ उसका नाम धौधेय था.

2. अर्जुन– द्रौपदी के अलावा अर्जुन की सुभद्रा, उलूपी और चित्रांगदा नामक तीन और पत्नियां थीं. सुभद्रा से अभिमन्यु, उलूपी से इरावत, चित्रांगदा से वभ्रुवाहन नामक पुत्रों का जन्म हुआ.

[youtube https://www.youtube.com/watch?v=kg50saEDero]

3. भीम-द्रौपदी के अलावा भीम की हिडिम्‍बा और बलंधरा नामक दो और पत्नियां थीं. हिडिम्‍बा से घटोत्कच और बलंधरा से सर्वंग का जन्म हुआ.

4. नकुल -द्रौपदी के अलावा नकुल की करेणुमती नामक पत्नी थीं. करेणुमती से निरमित्र नामक पुत्र का जन्म हुआ.

5. सहदेव – सहदेव की दूसरी पत्नी का नाम विजया था जिससे इनका सुहोत्र नाम का पुत्र हुअा.