वीडियो में देखिये भारत के इस सबसे खतरनाक राज्य का अनसुना सच, जहाँ…

भारत में सभी राज्यों का अपना विशेष महत्व होता है, क्योंकि हर राज्य का देश को उन्नति की ओर बढ़ाने में बहुत योगदान रहा है. भारत के हर राज्य को उसकी भाषा के आधार पर विभाजित किया गया है. जैसे तमिल बोलने वालों के राज्य के नाम तमिलनाडु और हरियाणवी भाषी क्षेत्र को हरियाणा का नाम दे दिया गया. जिस तरह सभी राज्यों का अलग पहनावा होता है. वैसे ही उनकी संस्कृति भी दुसरे राज्यों से अलग होती है. लेकिन जब बात देश के मान सम्मान की हो तो सभी राज्यों के लोग एक साथ मिलकर आवाज़ उठाते हैं, जो देश प्रेम को दर्शाता है.

लेकिन क्या आपने कभी कल्पना भी की है भारत लोकतांत्रिक जैसे देश में कोई खतरनाक राज्य भी हो सकता है, तो ये बिलुकल सच है जी हा’ हम बात कर रहे है नागालेंड की, जिसके बारे में कुछ ऐसे खतरनाक तथ्य सामने आये है जिनको सुनने के बाद आपके रोगंटे खड़े हो जायेंगे.

आइये आपको बताते है, नागालेंड के बारे में कुछ ऐसे बातें जो आपको हैरान हो सकती है. यहाँ कोई भी व्यक्ति एक भाषा में बात नहीं करते हैं और यहाँ के लोग अगर खाने को कुछ भी न मिले तो कुत्ते का मांस भी खा जाते हैं. नागालेंड भारत के पूर्व में स्थित है जहाँ की कुल आबादी सिर्फ 19 लाख है.

अगर देखा जाये तो ये आबादी भारत के अन्य राज्यों से बहुत कम है. नागालेंड में लगभग 100 जनजातियाँ निवास करती हैं और हर एक जनजाति की अलग अलग भाषा है. जिसके बाद यहाँ कोई भी एक प्रकार की भाषा का प्रयोग नहीं करता है. यहाँ पर सबसे ज्यादा बोले जाने वाली भाषा “आओ” है जिसको केवल 12 प्रतिशत लोग ही बोलते हैं.

यहाँ की एक संस्कृति है जिसका नाम “नागा” है और इसके हिसाब से यहाँ के लोग कुत्ते के मांस का सेवन करते है जिसको सदियों से चली आ रही संस्कृति का हिस्सा माना जाता है.

यहाँ के नागा जनजाति सपनों को बहुत महत्व देते और उनको सच करने के लिए अपनी पुरजोर कोशिश करते है. कहा जाता है नागालेंड की कुछ जनजाति बहुत खतरनाक होती है इसलिए कुछ इलाकों में जाने से पहले सभी लोग बहुत सावधानी बरतते हैं.

[youtube https://www.youtube.com/watch?v=p-OU8I7nhq0]

भारत के कुछ लोग नागालेंड के लोगों को पिछड़ा हुआ मानते हैं. लेकिन उनको पता नहीं इस राज्य में शिक्षा का स्तर बहुत ज्यादा है और यहाँ शिक्षित लोगों की मात्रा करीब 80 से 85 प्रतिशत है. लेकिन हैरान करने वाली बात ये है कि यहाँ लोग कृषि से लिप्त  होने के बाद भी सब्जियां खाना पसंद नहीं करते हैं. जिसमें चोंकाने वाली बात ये भी सामने आई है कि यहाँ पटाखे जलाना मना है और यहाँ विस्की, रम और बीयर को छोड़कर किसी और प्रकार के अल्कोहल पर पाबंदी है.